भारत पीओके पर हमला कर सकता है-पाकिस्तानी वकील अकरम शेख

23

इन दिनों पाकिस्तान में इस बात को लेकर चर्चा चल रही है कि भारत गुलाम कश्मीर में एक सप्ताह में हमला कर सकता है। अभी तक पाकिस्तान बार-बार भारत पर हमले की बात कह रहा था मगर अब वहां के तमाम नेता इस बात को लेकर डरे हुए हैं कि जिस तरह से अमेरिका में मोदी और ट्रंप की मीटिंग हुई है उससे यही लग रहा है कि अगले कुछ दिनों में आतंक का नाम लेकर भारत ही गुलाम कश्मीर पर हमला कर सकता है। मंगलवार को पाकिस्तान के जियो टीवी के कैपिटल टॉक कार्यक्रम में शामिल सुप्रीम कोर्ट के वकील अकरम शेख ने साफ तौर पर कहा कि भारत एक सप्ताह या 10 दिन में पीओके पर हमला कर सकता है।

भारत के हमला करने के पीछे तर्क के बारे में पूछे जाने पर अकरम शेख ने कहा कि अमेरिका के ह्यूस्टन में जिस तरह से मोदी और ट्रंप की जुगलबंदी देखने को मिली है उससे अब यही अंदाजा लगाया जा रहा है कि भारत अमेरिका को साथ में लेकर वहां पर भी हमला कर सकता है। अब भारत बचाव की जगह पर हमले की रणनीति पर काम करेगा। उन्होंने कहा कि अब भारत के लिए अग्रेशन ही बेस्ट डिफेंस है। कैपिटल टॉक के इस कार्यक्रम में मोहम्मद अली शेख, खुर्शीद महमूद कुरैशी भी मौजूद थे, इन सभी ने भी अपने-अपने विचार रखे। कार्यक्रम के एंकर हामिद मीर ने इस बात पर अचंभा जाहिर किया, तब अकरम शेख ने इसके पीछे अपने तर्क भी दिए।

जबकि कैपिटल टॉक में मौजूद खुर्शीद कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान किसी भी तरह से भारत से युद्ध करने के लिए सक्षम है। उसके पास खुद के डेवलप किए हुए टैंक और अन्य साजोसामान है। भारत के पास ऐसी चीजें नहीं है। भारत के पास 44 साल पुराने जहाज है। वो ये बातें कहकर खुद को भारत से अधिक मजबूत बताते रहे।

 

खुर्शीद हसन ने कहा कि हिंदुस्तान इस तरह का नहीं है कि वो रवायती जंग कर सके। वो वार नहीं कर सकता है। उनकी मिलिट्री उनको सलाह देगी कि युद्ध करना मुनासिब नहीं है। उन्होंने याद दिलाया कि जब 1965 में भारत-पाक की जंग हुई थी तो सेना प्रमुख ने कहा था कि वो ताशकंद हारने का का राज बताऊंगें। राज ये था कि उन दिनों हमारे पास 17 दिन से ज्यादा लड़ने के लिए गोला बारूद नहीं था। मगर अब अगर जंग हुई तो दोनों तरफ तबाही होगी। पाकिस्तान डिफेंड कर रहा है जो डिफेंड कर रहा होता उसको लाभ होता है। युद्ध से बड़ा खतरा हिंदुस्तान के लिए है। पंजाब और कश्मीर के लिए सबसे अधिक खतरा मोल लेंगे। पंजाब के अंदर हालात खराब होंगे। मीलिट्री सोचेगी कि रिस्क नहीं लेना चाहिए।मोहम्मद अली शेख ने कहा कि अमित शाह ने कश्मीर पर कब्जा कर लिया है, अब वो इस पर बात करने के लिए तैयार नहीं है। दरअसल बीजेपी को देश की जनता ने बहुमत दिया है इस वजह से वो अपने किए फैसले पर वापस नहीं हो सकते। सरकार ने कश्मीर में हालात को कंट्रोल में करने के लिए सेना की एक्सट्रा टुकड़ी लगा रखी है। यदि युद्ध हुआ तो वो वहां पर तैनात लाखों सैनिकों को सीमा पार करवा देंगे। जितने भी इलाके हैं वो ले लेंगे। भारत ने पाकिस्तान के साथ जो समझौता था वो सब तोड़ दिया। उनके सामने अलग स्थिति है। अमेरिका को साथ लिया हुआ है। जहां तक ट्रंप की बात है वो भारत के साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा कि इन दिनों भारत की सारी सियासत कश्मीर को लेकर ही है। वो कश्मीर को लेकर ही काम कर रहे हैं। वो पीछे नहीं हटेंगे। कश्मीर पर कब्जा कायम रहेगा। कश्मीर को बचाने के लिए फौज लगी हुई है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को दुश्मन को कमजोर नहीं समझना चाहिए।

बता दें, भारत और पाकिस्तान के बीच 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से ही तनाव बढ़ गया है। भारत और पाकिस्तान की ओर से इसको लेकर रस्साकशी देखी जा रही है। ऐसे में 27 सितंबर को भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री जब UNGA की बैठक में आमने-सामने होंगे तो तनाव और बढ़ने वाला है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.